हम कि रूठी हुई रुत को भी मना लेते थे!

हम कि रूठी हुई रुत को भी मना लेते थे,
हम ने देखा ही न था मौसम-ए-हिज्राँ जाना|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply

%d bloggers like this: