हर कोई अपनी ही आवाज़ से काँप उठता है!

हर कोई अपनी ही आवाज़ से काँप उठता है,
हर कोई अपने ही साये से हिरासाँ जाना|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply