एक दिल एक तमन्ना के सिवा कुछ भी नहीं !

आओ आने की करें बात, कि तुम आए हो,
अब तुम आए हो तो मैं कौन सी शै नज़र करूँ,
के मेरे पास सिवा मेहर–ओ–वफ़ा कुछ भी नहीं|

एक दिल एक तमन्ना के सिवा कुछ भी नहीं |

अली सरदार जाफ़री

Leave a Reply