तब भी तो तुम आए थे!

जब नहीं आए थे तुम, तब भी तो तुम आए थे
आँख में नूर की और दिल में लहू की सूरत
याद की तरह धड़कते हुए दिल की सूरत|

अली सरदार जाफरी

Leave a Reply