महताब के खंज़र की तरह!

तुम नहीं आए अभी, फिर भी तो तुम आए हो
रात के सीने में महताब के खंज़र की तरह
सुब्‍हो के हाथ में ख़ुर्शीद के सागर की तरह|

अली सरदार जाफ़री

Leave a Reply

%d bloggers like this: