इंतज़ार!

मुझे पता है किसे इंतज़ार कहते हैं,
कि मैंने देखा है लम्हात को ठहरते हुए।

मिलाप चंद राही

Leave a Reply