तेरे शहर से गुज़रते हुए!

ये वाकया है तेरे शहर से गुज़रते हुए,
हरे हुए हैं कई ज़ख्म दिल के भरते हुए।

मिलाप चंद राही

Leave a Reply