लरजना ज़ुबां का!

रवां-दवां थी, सियासत में रंग भरते हुए,
लरज़ गई है ज़ुबां, दिल की बात करते हुए।

मिलाप चंद राही

Leave a Reply