वो अठखेलियां कहाँ राही!

नजर-नवाज़ वो अठखेलियां कहाँ राही,
चले है बाद-ए-सबा अब तो गुल कतरते हुए।

मिलाप चंद राही

Leave a Reply