ताल सा हिलता रहा मन!

धर गए मेहंदी रचे, दो हाथ जल में दीप
जन्म-जन्मों ताल सा हिलता रहा मन।

किशन सरोज

Leave a Reply