अपनी ही लाश का ख़ुद मज़ार आदमी!

सुबह से शाम तक बोझ ढोता हुआ,
अपनी ही लाश का ख़ुद मज़ार आदमी|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply

%d bloggers like this: