आख़िरी सांस तक बेक़रार आदमी!

Hitchhiking Astronaut

ज़िन्दगी का मुक़द्दर सफ़र दर सफ़र,
आख़िरी सांस तक बेक़रार आदमी|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply