हर नए दिन नया इंतज़ार आदमी!

रोज़ जीता हुआ रोज़ मरता हुआ,
हर नए दिन नया इंतज़ार आदमी|

निदा फ़ाज़ली

2 Comments

Leave a Reply