दोपहर न भाये मुझे!

मैं अपने पाँव तले रौंदता हूँ साये को
बदन मेरा ही सही दोपहर न भाये मुझे।

क़तील शिफ़ाई

2 Comments

Leave a Reply