सौ बार आज़माये मुझे!

वो महरबाँ है तो इक़रार क्यूँ नहीं करता
वो बदगुमाँ है तो सौ बार आज़माये मुझे।

क़तील शिफ़ाई

Leave a Reply

%d bloggers like this: