मेरा अंगूठा काट जाती है!

किसी कुटिया को जब “बेकल”महल का रूप देता हूँ,
शंहशाही की ज़िद्द मेरा अंगूठा काट जाती है|

बेकल उत्साही

Leave a Reply