उजाले ही उजाले होंगे!

शम्मा ले आये हैं हम जल्वागह-ए-जानाँ से,
अब दो आलम में उजाले ही उजाले होंगे|

परवेज़ जालंधरी

Leave a Reply

%d bloggers like this: