लब-ए-इज़हार पे ताले होंगे!

हम बड़े नाज़ से आये थे तेरी महफ़िल में,
क्या ख़बर थी लब-ए-इज़हार पे ताले होंगे|

परवेज़ जालंधरी

Leave a Reply