ज़िंदगी की शाम हो जाए!

उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो,
न जाने किस गली में ज़िंदगी की शाम हो जाए|

बशीर बद्र

Leave a Reply