काग़ज़ भिगो गईं आँखें!

ख़त का पढ़ना भी हो गया मुश्किल,
सारा काग़ज़ भिगो गईं आँखें|

नक़्श लायलपुरी

Leave a Reply