लड़ी में पिरो गईं आँखें!

दो दिलों को नज़र के धागे से,
इक लड़ी में पिरो गईं आँखें|

नक़्श लायलपुरी

Leave a Reply