वीरान हो गईं आँखें!

कोई जुगनू नहीं तसव्वुर का,
कितनी वीरान हो गईं आँखें|

नक़्श लायलपुरी

Leave a Reply