सो गईं आँखें!

रात कितनी उदास बैठी है,
चाँद निकला तो सो गईं आँखें|

नक़्श लायलपुरी

Leave a Reply

%d bloggers like this: