कोई भी आया न था!

रात भर पिछली ही आहट कान में आती रही,
झाँककर देखा गली में कोई भी आया न था|

अदीम हाशमी

Leave a Reply

%d bloggers like this: