कोई भी चारा न था!


याद करके और भी तकलीफ़ होती थी ‘अदीम’,
भूल जाने के सिवा अब कोई भी चारा न था|

अदीम हाशमी

Leave a Reply