वो मेरा न था!

फ़ासले ऐसे भी होंगे ये कभी सोचा भी न था,
सामने बैठा था मेरे, और वो मेरा न था|

अदीम हाशमी

Leave a Reply