कुछ बहला रहा हूँ!

तेरे ग़म को भी कुछ बहला रहा हूँ,
जहाँ को भी मैं समझा रहा हूँ|

फ़िराक़ गोरखपुरी

Leave a Reply