धोखे खा रहा हूँ!

यक़ीं ये है हक़ीक़त खुल रही है,
गुमाँ ये है कि धोखे खा रहा हूँ|

फ़िराक़ गोरखपुरी

Leave a Reply