बहुत घबरा रहा हूँ

सितारों से उलझता जा रहा हूँ,
शब-ए-फ़ुरक़त बहुत घबरा रहा हूँ|

फ़िराक़ गोरखपुरी

Leave a Reply