इन ठिठुरती उँगलियों को—

इन ठिठुरती उँगलियों को इस लपट पर सेंक लो,
धूप अब घर की किसी दीवार पर होगी नहीं|

दुष्यंत कुमार

Leave a Reply