क़हक़हों की अस्लियत!

सिर्फ़ शायर देखता है क़हक़हों की अस्लियत,
हर किसी के पास तो ऐसी नज़र होगी नहीं|

दुष्यंत कुमार

Leave a Reply