और भी ज़ख़्मों की जगह है!

इस दिल में अभी और भी ज़ख़्मों की जगह है,
अबरू की कटारी को दो, आब और जियादा|

Leave a Reply