जब चली सर्द हवा!

आज दिल की चोटों, दिल टूटने आदि को लेकर कुछ शेर, गीत पंक्तियाँ शेयर करूंगा, शुरुआत जोश मलीहाबादी जी के एक शेर से-



दिल की चोटों ने कभी चैन से रहने न दिया,
जब चली सर्द हवा, मैंने तुझे याद किया|

4 Comments

  1. दर्द दिल का हो तो कोई मरहम भी काम नही आता
    दर्द की इंतहा तो देखिए, मर के भी साथ जाता है

Leave a Reply