किसी दर्द को जगाओ!

ये उदासियों के मौसम कहीं रायेगाँ न जाएं,
किसी ज़ख़्म को कुरेदो, किसी दर्द को जगाओ|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply