मेरी बात मान जाओ!

ये जुदाइयों के रस्ते बड़ी दूर तक गए हैं,
जो गया वो फिर न लौटा, मेरी बात मान जाओ|

अहमद फ़राज़

2 Comments

  1. दिल से क्या जुड़ा वो कि जुदाईयोँ का गम नही
    नजदीकियों की बात करो न, इस बात में दम नही

Leave a Reply