बसो मेरी आँखों में

कुछ दिन तो बसो मेरी आँखों में,
फिर ख़्वाब अगर हो जाओ तो क्या|



ओबेदुल्लाह अलीम



Leave a Reply