फिर रोशन कर ज़हर का प्याला

फिर रोशन कर ज़हर का प्याला चमका नई सलीबें,
झूठों की दुनिया में सच को ताबानी दे मौला|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply