चलो मयकदे चलें!

यारो घिर आई शाम, चलो मयकदे चलें,
याद आ रहे हैं जाम, चलो मयकदे चलें|

कृष्ण बिहारी ‘नूर’

Leave a Reply