जीना न हो हराम!

अच्छा, नहीं पियेंगे जो पीना हराम है,
जीना न हो हराम, चलो मयकदे चलें|

कृष्ण बिहारी ‘नूर’

Leave a Reply