सोचों में पड़े हुए हैं!

जा पहुँचा मंज़िल पे ज़माना,
हम सोचों में पड़े हुए हैं|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply