हम अपनी पर अड़े हुए हैं!

दुनिया की अपनी इक ज़िद है,
हम अपनी पर अड़े हुए हैं|

राजेश रेड्डी

2 Comments

Leave a Reply