मिट्टी है, हवा है मुझमें!

आग है, पानी है, मिट्टी है, हवा है मुझमें,
मुझको ये वहम नहीं है कि खु़दा है मुझमें|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply