मैं समुन्दर हूँ उदासी का—

मैं समुन्दर हूँ उदासी का अकेलेपन का,
ग़म का इक दरिया अभी आके मिला है मुझमें|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply