और जां तन्हा!

ज़िन्दगी क्या इसी को कहते हैं,
जिस्म तन्हा है और जां तन्हा|

मीना कुमारी (महज़बीं बानो)

Leave a Reply