चलते रहें कहां तन्हा!

हमसफ़र कोई गर मिले भी कभी,
दोनों चलते रहें कहां तन्हा|

मीना कुमारी (महज़बीं बानो)

Leave a Reply