बुझ गई आस, छुप गया तारा!

बुझ गई आस, छुप गया तारा,
थरथराता रहा धुआं तन्हा|

मीना कुमारी (महज़बीं बानो)

Leave a Reply