सिमटा-सा एक मकां तन्हा!

जलती-बुझती-सी रोशनी के परे,
सिमटा-सिमटा-सा एक मकां तन्हा|

मीना कुमारी (महज़बीं बानो)

Leave a Reply