अटकी पतंग हूँ!

माँझा कोई यक़ीन के क़ाबिल नहीं रहा,
तनहाइयों के पेड़ से अटकी पतंग हूँ|

सूर्यभानु गुप्त

Leave a Reply