निकला हूँ इक नदी-सा—

निकला हूँ इक नदी-सा समन्दर को ढूँढ़ने,
कुछ दूर कश्तियों के अभी संग-संग हूँ|

सूर्यभानु गुप्त

Leave a Reply