गर्मी-ए-मोहब्बत में वो!

गर्मी-ए-मोहब्बत में वो है आह से माने,
पंखा नफ़स-ए-सर्द का झलने नहीं देते|

अकबर इलाहाबादी

Leave a Reply